कान में वैक्‍स का जमना एक प्राकृतिक तरीका है शरीर को बचाने का। यह कानों की नली में आने वाली गंदगी और बैक्‍टीरिया को बढ़ने से रोकता है लेकिन ज्‍यादा वैक्‍स का भर जाना भी ठीक नहीं है।

इससे कानों से कम सुनाई देने लगता है और कानों में दर्द भी होने लगता है। हमारे कान तब ब्‍लॉक हो जाते हैं जब मैद कठोरता से जम जाती है और वो अपने आप बाहर नहीं निकल पाती। ऐसे में कई लोग रूई की तीली से या फिर किसी महीन चीज़ से उसे बाहर निकालने की कोशिश करने लगते हैं जो कि घातक हो सकता है।

कानों से मैल साफ करने का एक सबसे अच्‍छा तरीका है कि नहाने के बाद कान साफ़ करें। इससे काफी आसानी होती है क्योंकि नहाने के बाद वैक्‍स नर्म हो जाता है। आप की जानकारी के लिये बता दें कि जो लोग बहुत ज्‍यादा इयरफोन आदि का प्रयोग करते हैं, उनको इसकी ज्‍यादा समस्‍या होती है।

आज हम आपको ऐसे आसान से घरेलू तरीके बताएंगे जिसकी मदद से आप कान में जमी मैद यानी वैक्‍स को आराम से निकाल सकते हैं। जानकारी के लिये पढ़ें हमारा लेख…

कान में मैल होने के संकेत
कान दर्द
कान भरा भरा सा लगना
कानों में आवाज़ आना
कानों से कम सुनाई देना